5 में से 1 भारतीयको नौकरी खोनेका डर है, डिजिटली निपुणता पर भारत नंबर 1

5 में से 1 भारतीयको नौकरी खोनेका डर है, डिजिटली निपुणता पर भारत नंबर 1
0 0 vote
Article Rating

YouGov Survey

Sample: सर्वेक्षण 7-10 अप्रैल के बीच भारत के 1,000 प्रत्यर्थी पर किया गया था।

– 5 में से 1 भारतीय को अपनी नौकरी खोने की चिंता सता रही है 

– 16% को वेतन कटौती का डर है 

– 8% को इस साल बोनस या इंक्रीमेंट न मिलने का डर है 

– 64 प्रतिशत को वायरस से संक्रमित होने का डर है 

– महामारी से संबंधित सबसे बड़ी चिंता आवश्यक वस्तुओं की अनुपलब्धता है, जिसके बारे में 37 प्रतिशत भारतीय चिंतित हैं

– आंकड़ों से पता चला कि लगभग आधे (47 प्रतिशत) ने खुद को फिट रखने के लिए घर पर ही व्यायाम करना शुरू कर दिया है

– 46 फीसदी अपने मित्र या परिवार को वीडियो कॉल कर रहे जो की सामान्य इस्थिति में नहीं हुआ करता था 

Survey: Gartner Digital Workplace Survey 2019

Sample Sizes: 2019 गार्टनर डिजिटल वर्कप्लेस सर्वे मार्च 2019 से अप्रैल 2019 तक ऑनलाइन आयोजित किया गया था। इसमें U.S., फ्रांस, जर्मनी, U.K. चीन, भारत और सिंगापुर के 7261 प्रत्यर्थी शामिल थे 

- भारत दुनिया का सबसे डिजिटल रूप से निपुण देश है - इसके बाद यू.के. और यू.एस

– भारत में दस में से सात कर्मचारियों ने कहा कि नई डिजिटल प्रौद्योगिकियों को अपनाने से कैरियर के अवसर और उच्च भुगतान वाली नौकरियां पैदा होंगी

– भारत में पैंतालीस प्रतिशत कामगारों को अपने काम करने की आदतों पर डिजिटल तकनीक से नज़र रखने पर कोई आपत्ति नहीं है 

– भारत में, 39% डिजिटल श्रमिक अपने ज्ञान को AI, ML, IoT पर अद्यतित रखने के लिए OTJ प्रशिक्षित होना चाहते हैं, जो सर्वेक्षण प्रत्यर्थी  में सबसे अधिक है।

Mckinsey Pre-Lockdown Survey

Sample: 560 से अधिक भारतीयों ने लॉकडाउन से पहले किया गए ग्लोबल सर्वेक्षण में भाग लिया, इस समय महाराष्ट्र जैसे राज्य पहले से लॉकडाउन किये जा चुके थे 

– COVID-19 प्रकोप के बाद एक तिहाई भारतीय ग्राहक को ने अपनी वफादारी बदल ली ही. उन्होंने ने अपनी किराने की जरूरतों के लिए नए व्यापारियों से खरीदारी शुरू कर दी है / 

– सर्वेक्षण के निष्कर्षों में कहा गया है कि निकटता एक नई दुकान में बदलाव के लिए सबसे बड़ा ड्राइविंग कारक था I इस के अलावा नियमित स्टोर के असुरक्षित होने या संक्रमण मुक्त न होने की भावना से कुछ लोग ऑनलाइन विकल्प अपनाने लगे i इसके बाद नई दुकान पर बेहतर सेवा से भी ये लोग प्रभावित थे 

- कई उपभोक्ताओं ने बताया कि उन्हें नए ब्रांड विकल्पों के लिए स्विच करना था, लेकिन उनमें से लगभग 90 प्रतिशत ने कहा कि संकट खत्म होने के बाद वे अपने पसंदीदा ब्रांड में वापस जाएंगे।
Subscribe
Notify of
guest

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x